Mother's Day www.theeleganceart.com
Posted on: April 18, 2020 Posted by: Niharika Garg Comments: 0

MOTHER’S DAY SHAYARI IN HINDI | माँ पर कुछ पंक्तियाँ

                   ‘ माँ-आधार जगत का ‘ तू ही माँ आधार जगत का, तेरे रूप अनेक| तुमको मां शत-शत वंदन, करते तेरा अभिषेक| *************************************************************************************************** ममता का आंचल प्यार की छांव है मां शक्ति का साया हर सांस की आस है मां नजर पड़ते ही जो सीने से लगा लेती है ऐसी खुशबू का सुखद एहसास है मां|| *************************************************************************************************** ALSO READ:नारी पर कुछ पंक्तियाँ एक…

Story on Elephant www.theeleganceart.com
Posted on: April 16, 2020 Posted by: Niharika Garg Comments: 0

POEMS FOR CHILDREN IN HINDI | हिन्दी कविताएं | हिंदी कविता

             ‘ हाथी -जंगल का नाई ‘ हाथी जी ने सूंड हिलाई, बोला, में जंगल का नाई| अच्छी करूं हजामत सबकी, फिर तो करो मौज और मस्ती| सबसे पहले भालू आया, उसने अपना सिर मुंडवाया| बोला हमको पसंद ना आया, सब ने यह आवाज उठाई| तुम से बुरा कोई नहीं भाई, तुम तो खुद गंजे हो भाई| ***************************************************************************     ‘ तितली-रंग बिरंगे पंखों वाली…

Posted on: April 15, 2020 Posted by: Niharika Garg Comments: 0

LOVE SHAYARI IN HINDI | हिंदी शायरी | भगवान से प्रार्थना | एक गोपी की इच्छा |

  मुझे बांसुरी बनाकर अपने होठों से लगा लो, जो प्रेम गीत गूंजे उसे नैनों में बसा लो| कान्हा मिलन की आस अधूरी ना रह जाए, मैं सुध बुध भूलू ऐसी मुझे यूं ना विसारों||

Posted on: April 13, 2020 Posted by: Niharika Garg Comments: 0

POEM ON HOLI | होली पर कविता-HINDI POEM

      ‘होली’ उल्लास भरा है दिल में सबके फागुनी घटा छायी है। होली के रंगों में रंगकर, धरती भी शरमायी है।। रंग बिरंगे यौवन के संग, प्रकृति भी इठलाती है। खेतों में खिल उठी है सरसों, गीत फगुनिया गाती है।। पेड़-पौधे और पशु-पक्षी सब में मस्ती छायी है। होली के रंगों में रंगकर………. बजा-बजाकर ढोल मंजीरे, गीत खुशी के गाते सब। घर-घर जाकर रंग लगाते, सबको गले लगाते…

women empowerment
Posted on: April 13, 2020 Posted by: Niharika Garg Comments: 0

नारी सशक्तिकरण पर कविता-Poem on women empowerment

                   “नारी“ नारी हूं मैं नारी हूं, संघर्षो की मारी हूं। मुझसे है सृष्टि सारी, फिर भी मैं बेचारी हूं।। मैं प्रकृति का अनमोल उपहार, सबकी ममता का आधार। त्याग करूं चाहे सह लूं कितना, प्रताड़ित करता फिर भी संसार।। हर रूप बसा मेरे अंदर, मैं ही दुर्गा मैं ही ईश्वर। परिवार की मैं आधार शिला, मैं ही शीशा मैं ही पत्थर।।…

Corona Virus www.theeleganceart.com
Posted on: April 13, 2020 Posted by: Niharika Garg Comments: 0

Some lines on Corona Virus | कोरोना वायरस से सम्बंधित कुछ छन्द

  महामारी ने देश में, पसार दिए हैं पांव कोरोना के भय से, त्रस्त हैं शहर गांव। त्रस्त हैं शहर गांव, सतर्कता और बढेगी योग,नमस्ते करो, हिम्मत और बढ़ेगी। कहे ‘पुष्प’ ये बात, दिखाओ मत लाचारी करो नियम का पालन, भागेगी महामारी।।   ****************************************************************    मोदी जी की देश में , बन गयी एक मिशाल लॉकडाउन भारत में, दीपों की जली मशाल। दीपों की जली मशाल ,मन ही मन सब…