Posted on: April 15, 2020 Posted by: Niharika Garg Comments: 0

नारी पर कुछ पंक्तियाँ www.theeleganceart.com
जब दोष आरोपित होते हैं,
नारी की लज्जा खोते हैं |
चाहे गुणा, भाग या जोड़ करो,
नारी को सभी डुबोते हैं ||

Leave a Comment