Posted on: September 4, 2020 Posted by: Niharika Garg Comments: 0
हिंदी दिवस पर निबंध www.theeleganceart.com

हिन्दी दिवस पर भाषण 2020 - Hindi Speech on Hindi Diwas Pdf Download for  Class 1-12 Students

हिंदी दिवस पर निबंध

14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने हिंदी को राजभाषा का दर्जा दिया था।

1952 के उपरांत हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस हर संस्थान, स्कूल, कॉलेजों में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है।
इसी के परिणाम स्वरूप आज वैश्वीकरण के दौर में हिंदी विश्व मानव पटल पर एक अति उत्तम व प्रभावशाली भाषा बन कर उभरी है।

आज सर्वाधिक विश्वविद्यालयों में हिंदी भाषा पढ़ाई जाती है । हिंदी विश्व की सुंदर भाषाओं में से एक है। कारण है ! हिंदी का सरलीकरण होना। हम जितने सुंदर भाव विचार हिंदी भाषा में व्यक्त कर सकते हैं, उतने अन्यंत्र भाषा में नहीं कर सकते।

हिंदी दिलों की भाषा है जिसके अंदर जीवन का सार छिपा हुआ है अगर ध्यान से देखा जाए और समझा जाए तो हमारे चेहरे की जितनी भी भाव भंगिमाएं हैं उनका जितने सुंदर ढंग से वर्णन हम हिंदी में प्रस्तुत कर सकते हैं उतना अन्य किसी भाषा में नहीं कर सकते तभी तो हिंदी साहित्य में जितने भी कवि हुए हैं उन्होंने नवरसों का जितना सुंदर वर्णन अपने काव्य में किया है उतना अन्य किसी भाषा में नहीं किया गया।

हिंदी आकाश में चमकते हुए तारों के बीच चंद्रमा के समान है जो अपनी आभा से सभी को अपनी ओर आकर्षित कर लेती है। लेकिन आज लोग हिंदी को जानते हुए भी हिंदी में बोलना लिखना पढ़ना कम पसंद करते हैं वह अंग्रेजी बोलने वालों के समक्ष खुद को हीन समझते हैं जबकि,
ऐसा गलत है उन्हें गर्व से हिंदी बोली चाहिए इन शब्दों के साथ हिंदी है हम वतन है हिंदुस्तान हमारा यदि हमें अपनी भाषा हिंदी को और अधिक विकसित करना है तो सरकार को इस ओर और अधिक ध्यान देना चाहिए।

सर्वप्रथम देश के जो हिंदी भाषी राज्य हैं उनमें हिंदी अंग्रेजी और उस राज्य की भाषा को आवश्यक कर देना चाहिए यानी कि त्रिभाषा।
दूसरा स्कूलों व कालेज स्तर पर कंप्यूटर ,मोबाइल , लैपटॉप आदि में अंग्रेजी भाषा सीखाने के साथ-साथ हिंदी कीबोर्ड के माध्यम से टाइपिंग सिखाई जानी चाहिए ताकि हर तबके के लोग उसे सीख सकें।
कानून से संबंधित जिरह और फैसला लिखना भी हिंदी भाषा में कराना चाहिए जिससे सब लोग अच्छी तरह से समझ सके।

भारतीय भाषाओं में तकनीकी ज्ञान से संबंधित साहित्य का सरल भाषा में अनुवाद किया जाए जिससे हिंदी को और ज्यादा विकसित किया जा सके।

ALSO READ:हिंदी दिवस पर कविता

सरकारी दस्तावेजों में जो भी कठिन शब्द है उनका सरल भाषा में अनुवाद किया जाना चाहिए जिसे सब आसानी से पढ़ सकें और समझ सके।
सरकार को चाहिए कि हिंदी भाषा को दसवीं की वजह 12वीं क्लास तक आवश्यक कर देनी चाहिए इससे छात्रों का और ज्यादा रुझान बढ़ेगा और हिंदी का और भी अधिक प्रचार और प्रसार होगा

सच्चे अर्थों में देखा जाए तो भाषा वही जीवित है जिसका प्रयोग जनता करती है और जो लोगों के बीच की अभिव्यक्ति संवाद और संप्रेषण का माध्यम बनती है। इसलिए हमें अधिक से अधिक मात्रा में हिंदी भाषा का उपयोग करना चाहिए हिंदी के प्रसार और प्रचार से पूरे देश में एकता की भावना और ज्यादा मजबूत होगी।

हिंदी भाषा अपनाओं
सच्चे हिंदुस्तानी कहलाओ।

डॉ पुष्पा गर्ग।

Also Read:How to make vegetable momos

Leave a Comment